IPC 324 in Hindi – आईपीसी की धारा 324 क्या है पूरी जानकारी

0

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि आईपीसी धारा 324 क्या है। (What is IPC 324 in Hindi) और यह धारा क्या कहती है। (What does IPC 324 Says in Hindi) क्या इसके महत्वपूर्ण तत्व है (What are it’s elements in hindi) इस धारा के बारे में पूरी जानकारी देंगे। इसीलिए आप ये आर्टिकल पूरा धेयान से पढ़ना ताकि आपको अच्छे से समझ में आये।

आजकल कोई भी व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को कुछ ना कुछ हानी पहुंचाने या उसे मारने की कोशिश करता है जानबूझकर या फिर वह व्यक्ति को गंभीर हालत में पहुंचाने की कोशिश करता है, आज कल ऐसा बहुत आम बात हो गई है। अक्सर जान बूझ कर लड़ाई करने की कोशिश की जाती है।

IPC 324 in Hindi

या फिर सामने वाले पर हमला करने की कोशिश करता है किसी हथियार से जिससे व्यक्ति को गंभीर चोट आ जाएं ओर व्यक्ति मर जाये तो जो में आपको IPC Section 324 को बताने जा रहा हूँ दरअसल इसी धारा में ये कानून है यानी की इस आर्टिकल में हम IPC Section 324 के बारे में जानेंगे कि कैसे इसमें अपराध होता है, क्या सज़ा होती है, कैसे जमानत होती है सबकुछ विस्तार से जानेंगे तो आपको यह अन्त तक पढ़ना है।

आईपीसी की धारा 324 क्या है (What is IPC 324 in Hindi)

भारतीय दंड संहिता की धारा 324 के अनुसार, धारा 334 में दिए गए मामलों को छोड़ कर जो भी गोपने वाली चीज, गोली चलाने या काटने जैसे किसी वस्तु से या किसी ग़ैर कानूनी हथियार से स्वेच्छापूर्वक (अपने मन से) कोई चोट पहुंचाए जिससे व्यक्ति के जान जाने की संभावना रहती है या फिर आग से या किसी भी गरम पदार्थ से जिससे जान जाने या मानव शरीर के लिए घातक या किसी जानवर के माध्यम से चोट पहुंचाता है।

ऐसे व्यक्ति को 3 वर्ष की कारावास या जुर्माना लगा कर या फिर दोनों से ही दंडित किया जाता है। IPC Section 324 इस धारा में यदि कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति की जानबुझकर चोट पहुंचाता है किसी खतरनाक हथियार से ऐसे अपराधी को दंड दिया जाता है। यदि कोई अपराधी किसी व्यक्ति के साथ जानबूझकर किसी हथियार से आक्रमण करता है,

तो वह अपराधी भारतीय दंड संहिता की धारा 324 के तहत अपराधी माना जाता है, और उसे इस धारा के प्रावधानों के अनुसार दंड भी दिया जाता हैं। यानी की जो भी इन्शान किसी को जान से मारने का कोसिस करता है यानी गंभीर चोट पहुंचा देता है तो ऐसे मामलो में IPC Section 324 अप्लाई होगा।

 Example:  सूरज और रमेश में घर के बंटवारे को लेकर आए दिन लड़ाई होता रहता है तो सूरज ने किसी दिन मौका पाकर रमेश पर हमला कर दिया चाकू से जिससे रमेश को काफी गंभीर चोट आईं वो घायल हों गया मौके पर ही फिर जब रमेश के घरवालों ने पुलिस स्टेशन में कैस दर्ज़ करवाया।

तो पुलिस सूरज को गिरफ़्तार कर न्यायालय में पेश करती है जहां सूरज को आजीवन कारावास और जुर्माना लगा कर दंडित करती है क्युकी इस वारदात में रमेश काफ़ी घायल हो जाता है उसे ठीक होने में काफी समय लगता है।

Most Read: आईपीसी धारा 354 क्या है IPC 354 in Hindi

आईपीसी धारा 324 में सजा का प्रावधान (Punishment in IPC Section 324 in Hindi)

भारतीय दंड संहिता की धारा 324 के अनुसार यदि कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को जानबूजकर उसपे किसी खतरनाक हथियार से हमला करता है जिससे उस व्यक्ति को गंभीर चोट लग जाती है।

तब ऐसे व्यक्ति को न्यायालय आजीवन कारावास या फिर उसे साधारण कारावास या 3 वर्ष की कारावास या जुर्माना लगा कर या फिर दोनों से ही दंडित करती है।

इस अपराध में सजा आरोपी की गंभीरता को देखते हुए निर्धारित करती है कि आरोपी ने कितना बड़ा गुनाह किया है। यह एक गैर कानूनी अपराध है इसमें आरोपी को बचाना काफी मुश्किल होता है। यह एक संज्ञेय अपराध है।

आईपीसी धारा 324 में ज़मानत का प्रावधान (Bail in Section 324 in Hindi)

भारतीय दंड संहिता की धारा 324 के अनुसार यदि कोई किसी अन्य व्यक्ति को जानबुझकर घायल करता है किसी खतरनाक हथियार से जिससे व्यक्ति को गंभीर चोट लगी जाती है ऐसे अपराध को न्यायालय ने ग़ैर ज़मानती अपराध बताया है।

IPC Section 324 के अनुसार यह एक गैर जमानती अपराध है जिसमें किसी भी आरोपी को ज़मानत मिलना काफ़ी मुश्किल है। ऐसे अपराध में आरोपी को निर्दोष साबित करना मुश्किल होता है क्युकी सारे सबूत उसके खिलाफ होते हैं।

यह एक संज्ञेय अपराध है जिससे किसी का बहुत नुक़सान होता है इसमें किसी व्यक्ति की जान भी जा सकती है। ऐसी में न्यायालय काफ़ी विचार करती है। अगर आरोपी उच्च न्यायालय में ज़मानत की याचिका दायर करता है तो वहा उसकी याचिका को निरस्त कर दिया जाता है।

Most Read: IPC 147 in Hindi – आईपीसी धारा 147 क्या है

आईपीसी धारा 324 में वकील की ज़रूरत क्यों होती है।

IPC Section 324 के अनुसार यह एक गैर जमानती अपराध है, इस अपराध में एक ऐसे व्यक्ति को सजा दी जाती है जो किसी अन्य व्यक्ति को किसी खतरनाक हथियार से घायल करता है तो ऐसे आरोपी के बचने के chances कम होते हैं तो उसे एक वकील की ज़रूरत होती है जो उसे किसी भी परिस्थिति में बचा सके, उसके लिए लाभकारी साबित हो सके और ऐसे तो वहीं वकील लाभकारी साबित हो सकता है।

जो अपने क्षेत्र में निपुण हो जो आरोपी को निर्दोष साबित कर सके, ऐसे किसी वकील को नियुक्त करना चाहिए जो कि ऐसे मामलों में पहले से ही पारंगत हो, और धारा 324 जैसे मामलों को उचित तरीके से सुलझा सकता हो। जिससे आपके केस को जीतने के अवसर और भी बढ़ सकते हैं।

इस धारा के बारे में जानना हमारे लिए काफी फायदेमंद है क्युकी आजकल लोग लड़ाई में मारपीट कर घायल कर देते हैं और हमें मालूम नहीं चलता क्या करना है और क्या नहीं, अगर हमें मालूम होगा तो हम सही निर्णय ले सकते हैं। और आरोपी को सजा दिलवा सकते हैं। वैसे तो पुलिस अपना काम करती ही है मगर हमे भी मालूम होगी तो बेहतर होता है।

 Note:  अब बात आती है की इस अपराध से कैसे बच सकते है तो में आपको बताना चाहता हूँ की इस अपराध से बचे के लिए आपके पास एक ही उपाए की आप मारपीट न करे जहाँ तक हो बात से अपने कारणों को हल करें।

Most Read: आईपीसी धारा 427 क्या है। IPC 427 in Hindi – पूरी जानकारी

इस आर्टिकल में हमने पुरी कोशिश की है आपको आसन भाषा में समझाए की यह धारा में क्या क्या होता है। (What is IPC 324 in Hindi) कैसे जमानत होती है, कैसे बचा जा सकता है। (How is punishment and bail in IPC section 324 in Hindi) और इस धारा के बारे में जानना क्यूं जरूरी है। अगर आपको पसंद आया और आपके लिए लाभकारी साबित हुआ है तो अपने साथियों के साथ जरूर शेयर करें और उन्हें भी इस धारा के बारे में जानकारी लेने को कहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here