IPC Section 28 in Hindi – आईपीसी धारा 28 क्या है पूरी जानकारी

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि भारतीय दण्ड संहिता की धारा 28 क्या है (What is IPC section 28 in Hindi), कैसे इसमें अपराध होता है, कितनी सजा सुनाई जाती है, वकील की ज़रूरत कब लगती है, इस अपराध को करने से कैसे बचा जा सकता है। भारतीय दण्ड संहिता की धारा 28 क्या कहती है (What does IPC section 28 says in Hindi), सब कुछ बहुत ही विस्तार से समझाने की कोशिश करेंगे।

आजकल किसी भी व्यक्ति के साथ धोखा या छल कपट करना तो आम बात हो गया है। सब कोई खुद के मतलब के लिए किसी भी व्यक्ति के साथ छल कपट कर देते है। अक्सर जो हमारे करीबी होते है वहीं हमारा फ़ायदा उठाते है वहीं छल कपट या धोखा करते है क्योंकि उन्हें हमारी कमजोरी के बारे में मालूम होता है और उसी का फायदा लेते है। किसी की जमीन हड़प लेना धोखे से या किसी बहुमूल्य दस्तावेज़ पर दस्तखत करवा कर धमकाते है।

IPC Section 28 in Hindi

तो आज हम ऐसे ही एक धारा के बारे में जानेंगे और देखेंगे कि छल कपट करने पर क्या होता है। यह सभी बातें हम आपको भारतीय दण्ड संहिता की धारा 28 (IPC section 28 in Hindi) में बहुत ही विस्तार और आसान भाषा में समझाने की कोशिश करेंगे तो आपको यह आर्टिकल अन्त तक पढ़ना है।

Most Read: IPC Section 32 in Hindi – आईपीसी धारा 32 क्या है

आईपीसी धारा 28 क्या है (What is IPC Section 28 in Hindi)

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 28 के अनुसार यदि कोई व्यक्ति एक चीज को दूसरी चीज के एक जैसा दिखना इस आशय से कारित करता है कि वह उस उपयुक्त से छल- कपट करे, या यह संभाव्य जानते हुए करता है कि छल- कपट किया जाएगा, उसे कूटकरण करना कहा जाता है।

Illustration 1 – कूटकरण के लिए यह आवश्यक नहीं है कि नकल ठीक वैसी ही हो।

Illustration 2 – जब कि कोई व्यक्ति एक चीज को दूसरी चीज के एक जैसा कर दे और ऐसा है कि किसी व्यक्ति को धोखा हो सकता हो, तो जब तक कि तत्प्रतिकूल साबित न किया जाए, यह उपधारणा की जाएगी कि जो व्यक्ति एक चीज की दूसरी चीज के इस प्रकार एक जैसा बनाता है उसका आशय उस उपरोक्त द्वारा छल – कपट करने का था या वह यह सम्भाव्य जानता था कि छल-कपट किया जाएगा।

आसान भाषा में कहें तो एक व्यक्ति को नकली कहा जाता है, जो एक चीज़ को दूसरी चीज़ से मिलता-जुलता बनाता है, जिसका उद्देश्य धोखे का अभ्यास करने के लिए उस समानता से है, या यह जानने की संभावना है कि धोखे का इस तरह अभ्यास किया जाएगा।

Most Read: IPC Section 40 in Hindi – आईपीसी धारा 40 क्या है

इस आर्टिकल में हमने आपको बताया कि कैसे एक चीज को दूसरी चीज के जैसा बता कर छल कपट करना क्या होता है। यह सभी बातें हमने आपको भारतीय दण्ड संहिता की धारा 28 (IPC section 28 in Hindi) में बहुत ही विस्तार और आसान भाषा में समझाने की कोशिश की है।

हम उम्मीद करते हैं आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और लाभकारी साबित हुआ होगा अगर आपको पसंद आया है तो अपने साथियों के साथ जरूर शेयर करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here