फिजियोथेरेपी (Physiotherapy) में करियर कैसे बनाये

0

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपको बताऊंगा की फिजियोथेरेपी क्या है (What is Physiotherapy in Hindi) फिजियोथेरेपी में करियर कैसे बनाये (How to make a career in Physiotherapy in Hindi) और इसमें अपना करियर कैसे बनाये सब कुछ की जानकारी देंगे।

दोस्तों विज्ञान की पढ़ाई करने के बाद युवाओं के पास बहुत सारे अवसर होते हैं उनमें से एक अवसर है पैरामेडिकल में ऐसे बहुत से क्षेत्र हैं जहां युवा अपना बहुत अच्छा कैरियर बना सकते हैं।

आज इस आर्टिकल में मैं आपको पैरामेडिकल के physiotherapy के बारे में बताऊंगा। दोस्तों आज बहुत ज्यादा फिजियोथेरेपी की मांग बढ़ रही है. दोस्तों फिजियो थेरेपी medical sector का एक ऐसा branch है जिसमें आपको बिना किसी side effect के बहुत सारे बीमारियों का इलाज किया जाता है. आज के समय में फिजियोथेरेपी बहुत तेजी से फैल रहा है. दोस्तों इसीलिए आज युवाओं के लिए फिजियोथेरेपी में बहुत ज्यादा अवसर हैं.

physiotherapy-mer-career-kaise-bnaye
pic: pixabay

इस आर्टिकल में मैं आपको physiotherapy me career kaise banaye इसके बारे में बहुत ही विस्तार से बताऊंगा. अगर आप भी physiotherapy के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं और फिजियोथेरेपी से संबंधित सारी जानकारी पाना चाहते हैं हमारे इस आर्टिकल को पूरा ध्यान से पढ़ियेगा. इस आर्टिकल में मैं आपको फिजियो थेरेपी से संबंधित निम्नलिखित जानकारी विस्तार से बताऊंगा.

फिजियोथेरेपी क्या है (What is Physiotherapy in Hindi)

दोस्तों अभी के समय में हम अपने दर्द को दूर करने के लिए कई सारी दवाइयों का का उपयोग करते हैं. कई सारी दवाइयों का साइड इफेक्ट होने के कारण हमें दर्द से छुटकारा मिल जाता है पर ओर अलग तरह की परेशानी भी हो जाती है. दोस्तों आज बहुत सारी therapy के द्वारा भी दर्द से हमें छुटकारा मिलता है। Physiotherapy एक ऐसी थेरेपी है जिसमें बिना दवाई के ही आपको दर्द से छुटकारा मिल जाता है।

दोस्तों फिजियो थेरेपी एक ऐसा इलाज है जिसमें आपके शरीर के बाहरी अंगों का उपयोग करके आप के दर्द को मिटाया जाता है. फिजियो थेरेपी को physics treatment के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसमें आपके हाथ पैर शरीर के अन्य और भागों का उपयोग करके आप का इलाज किया जाता है.

फिजियोथैरेपी इसीलिए बहुत ज्यादा कारगर है क्योंकि इसमें  कोई साइड इफेक्ट नहीं और आज के समय में बहुत तेजी से बढ़ रहा है. आज बहुत सारे लोग अपनी बहुत सारी बीमारियों का इलाज फिजियोथैरेपी के द्वारा ही करा रहे हैं. फिजियो थेरेपी में आपको exercise, हाथों की कसरत, pain relief movement, और योगा के द्वारा आप के दर्द का इलाज किया जाता है.

फिजियोथैरेपी में सबसे पहले मरीज के रोग का कारण पता लगाती है और फिर उसके बाद अलग-अलग फिजियोथेरेपी के द्वारा उस रोग से मरीज को मुक्ति दिलाती हैं।

फिजियोथेरेपी कब करनी चाहिए

दोस्तों खिलाड़ियों के स्वास्थ्य और फिटनेस को बनाए रखने के लिए हर एक खेल में एक फिजियोथैरेपिस्ट होता है जो खिलाड़ी के स्वास्थ्य की और फिटनेस की ध्यान रखता है।

आमतौर पर लोगों का यही मानना होता है कि फिजियोथैरेपी सिर्फ खिलाड़ियों के लिए होता है पर ऐसा नहीं है वे सारे लोग फिजियोथैरेपी का लाभ उठा सकते हैं जिन्हें हड्डियों और ह्रदय में किसी भी प्रकार की तकलीफ है।

दोस्तों अब मैं आपको ऐसी बहुत सारी बीमारियों की लिस्ट दे रहा हूं जिन के इलाज के लिए फिजियोथैरेपी का इस्तेमाल किया जाता है।

  • cervical Spondylitis
  • lumbar Spondylitis
  • cervical neck pain
  • frozen shoulder
  • osteoarthritis of knee joint (गठिया)
  • Bell’s palsy (चेहरे में लकवा)
  • cardio pulmonary
  • prolapse invertible
  • disc collapse

फिजियो थेरेपी के फायदे (Benefits of Physiotherapy in Hindi)

दोस्तों फिजियोथैरेपी द्वारा इलाज करने के बहुत सारे फायदे हैं उनमें से सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें किसी भी प्रकार की दवाई का इस्तेमाल नहीं होता यह प्रक्रिया पूरी तरह से दवाई मुक्त होती है इसमें सिर्फ आप का व्यायाम कराया जाता है जिसके कारण इसमें किसी भी प्रकार का साइड इफेक्ट नहीं पाया जाता है।

अब मैं आपको इसके अलावा और अन्य कई फायदों के बारे में बताऊंगा

  • फिजियोथैरेपी के द्वारा इलाज करने से आपके शरीर में लचीलापन आ जाता है।
  • इस पद्धति से इलाज करने से आप के हड्डियों के दर्द की समस्या कम हो जाती है या फिर पूरी तरह से समाप्त हो जाती है।
  • इससे आपके जोड़ों का लचीलापन से बढ़ता है और इनकी गति अगर कम हो जाती तो वह भी सामान्य हो जाती है।
  • इससे आपकी मांसपेशियों लचीलापन आ जाता है तथा मांसपेशियों की शक्ति भी लौट आती है।
  • इससे आपका दर्द तो कम होता ही है साथ ही आपकी सहनशीलता भी बढ़ती है और आपकी मानसिक शक्ति भी बढ़ती है।

ऐसे और अनेक फायदे हैं जो कि फिजियोथेरेपी से लोगों को मिलती है।

Movement of Physiotherapy

दोस्तों फिजियोथैरेपी में कई तरह के मूवमेंट का इस्तेमाल किया जाता है। यह movement में मरीज के उम्र और दर्द के अनुसार चुना जाता है।

फिजियो थेरेपी movement का इस्तेमाल करके ही मरीज के दर्द को कम किया जाता है अब मैं आपको फिजियोथेरेपी के इन सारे मूवमेंट के बारे में बताऊंगा।

 1  Active Movement

दोस्तों active movement का उपयोग ऐसे मरीजों के लिए किया जाता है जो कि व्यायाम और exercise करने में सक्षम होते हैं. इस मूवमेंट का इस्तेमाल करके शरीर का अकड़न और मांस पेशियों की शक्ति को पुनः लाया जाता है. इस मूवमेंट के द्वारा सांस संबंधित परेशानियों को भी दूर की जाती है.

इस मूवमेंट में breathing exercise कराई जाती है तथा कुछ उपकरणों के इस्तेमाल करके फेफड़ों की क्षमता को बढ़ाया जाता है. इन चीजों से फेफड़ों की समस्याओं को दूर किया जाता है.

 2  Passive Movement

इस मूवमेंट का इस्तेमाल शरीर में आए हुए कड़ेपन को दूर करने में होता है इस मूवमेंट में शरीर के कड़ेपन को दूर करने के लिए गर्मी का इस्तेमाल होता है शरीर को गर्मी देता उसे हिलाया डुलाया जाता है. इससे शरीर की मांसपेशियों में हलचल शुरू हो जाती है और शरीर का  कड़ापन दूर हो जाता है.

 3  Continuous Passive

इसमें भी मरीज का इलाज heat के द्वारा ही किया जाता है. इसमें कई सारे उपकरणों के इस्तेमाल करके मरीज के शरीर में heat दी जाती है और मरीज का इलाज किया जाता है.

फिजियोथेरेपी (Courses) कोर्स

फिजियोथैरेपिस्ट बनने के लिए आपको सबसे पहले फिजियोथैरेपी की course को करना होता है. physiotherapy के लिए  कई course कराए जाते हैं.

  • Diploma in physiotherapy
  • Bachelors in physiotherapy
  • Master’s in physiotherapy

फिजियोथेरेपी की योगयता (Eligibility for Physiotherapy Course)

अलग-अलग फिजियोथेरेपी के course ने दाखिला लेने के लिए अलग-अलग योग्यता की जरूरत पड़ती है. अपने आप को सारे course की एलिजिबिलिटी के बारे में बताऊंगा.

  • डिप्लोमा कोर्स में दाखिला लेने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं की परीक्षा कम से कम 50% अंकों के साथ पास करनी होती है
  • बैचलर इन फिजियोथैरेपी course के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं की परीक्षा biology, chemistry, physics subject से कम से कम 50% अंकों के साथ पास करनी होती है.
  • master in physiotherapy के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या कॉलेज से फिजियोथैरेपी में स्नातक की डिग्री लेनी होती है.

फिजियोथेरेपी कोर्स कैसे करे (How to Do Physiotherapy Course in Hindi)

दोस्तों फिजियो थेरेपी एक प्रोफेशनल मेडिकल कोर्स है. आने वाले समय में इस कोर्स की मांग बहुत तेजी से बढ़ रही है जिसके कारण आज बहुत सारे कॉलेज है जहां पर फिजियोथैरेपी कोर्स को कराया जाता है. इस कोर्स में दाखिला लेने के दो तरीके हैं पहला तरीका आप कॉलेज के प्रवेश परीक्षा के द्वारा दाखिला ले सकते हैं तथा दूसरा आप के 12वीं के अंक के आधार पर तथा स्नातक के अंक के आधार पर आपको  फिजियोथैरेपी कोर्स में दाखिला मिलता है.

Top physiotherapy college in india

  • Apollo Physiotherapy College Hyderabad
  • Pandit Din Dayal Upadhyay institute for physically handicapped New Delhi
  • Indian Institute of Health education and research Patna
  • Postgraduate graduateInstitute of Medical Education and Research Chandigarh
  • Nizam Institute of Medical Science Telangana
  • SDM College of Physiotherapy Karnataka
  • KJ Somaiya College of Physiotherapy Mumbai
  • Department of physical medicine and rehabilitation TamilNadu
  • JSS College of Physiotherapy Mysore

Career Scope in Physiotherapy

दोस्तों फिजियोथैरेपी कोर्स को करने के बाद आपके पास Career के संभावनाएं अब कई सारे क्षेत्र में आसानी से नौकरी पा सकते हैं. आज के समय में फिजियोथैरेपी बहुत तेजी से फैल रहा है क्योंकि हर कोई अपनी बीमारी का ऐसा इलाज कराना चाहता जिससे उसे कोई साइड इफेक्ट ना हो और फिजियोथेरेपी एक ऐसा ही इलाज है जिसके जरिए मरीज के रोग को दूर किया जाता है और उसे किसी भी तरह का साइड इफेक्ट का सामना नहीं करना पड़ता है.

फिजियोथैरेपी की सबसे ज्यादा  मांग आज sports industry में  है क्योंकि खेल का क्षेत्र ऐसा क्षेत्र है जिसमें खिलाड़ियों को हमेशा फिट रहना बहुत ही जरूरी होता है इसीलिए इस क्षेत्र में फिजियोथेरेपिस्ट की बहुत ज्यादा मांग है.

अब मैं आपको कुछ ऐसे क्षेत्र के लिस्ट दूंगा जहां पर बहुत ज्यादा फिजियोथेरेपिस्ट की मांग होती है:-

  • Sports clinic
  • sports club
  • gym centre
  • Army services
  • school and children’s centre
  • Nursing Home
  • health centres
  • old age home
  • rehabilitation centres
  • Government and private hospitals and clinic

Conclusion

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने फिजियोथैरेपी के संबंधित सारी जानकारी आपको दी है जो कि आपके लिए बहुत ज्यादा महत्व इस आर्टिकल में मैंने आपको फिजियोथैरेपी की निम्नलिखित महत्वपूर्ण जानकारी को विस्तार से बताया है

  1. Physiotherapy kya hai? (what is physiotherapy in hindi)
  2. Physiotherapy ke fayade (benefits of physiotherapy in hindi)
  3. Eligibility for physiotherapy course
  4. Physiotherapy course kaise kare
  5. Best physiotherapy college in india
  6. Career scope in physiotherapy 

इन सारी टॉपिक के बारे में मैंने इस आर्टिकल में बहुत ही विस्तार से बताएं अगर आप फिजियोथैरेपी में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो यह सारे टॉपिक आपके लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है.

मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़कर आपको यह पता चल गया है कि physiotherapy me career kaise banye आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगता है और हमारे आर्टिकल के संबंधित कोई राय देना चाहते हमें कमेंट करके जरूर बताएं.

आपको यह आर्टिकल पसंद आया है और इस आर्टिकल से आपको फिजियोथैरेपी की जानकारी मिली है तो हमारे इस आर्टिकल को share जरूर करें.

धन्यवाद!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here