IPC 506 in Hindi – आईपीसी धारा 506 क्या है पूरी जानकारी

0

दोस्तों अगर आप कानून की पढाई कर रहे है तो आपको आईपीसी धारा 506 क्या है (IPC 506 in Hindi) इसकी पूरी जानकारी होना चाहिए क्यूंकि ये आपके लिए जानना बहुत जरुरी है खेर में आपको बताऊंगा की IPC की धारा 506 क्या कहती है (What does section 506 of ipc say in hindi) और भी बहुत कुछ की जानकारी देंगे इसीलिए ये आर्टिकल पूरा धेयान से पढ़ना।

दोस्तों कई बार एशा होता है की हमलोग कानून की पढाई नहीं करते है लेकिन जब कभी किसी मुसीबत में पढ़ते है तो कई लोग गलत इल्जाम लगा देते है और हमलोग को मालूम भी नहीं चलता है की आईपीसी धारा 506 क्या होती है (IPC 506 in Hindi) इसीलिए हमारा देश की कानून की जानकारी रखना चाहिए इससे आपको काफी जाएदा हेल्प मिलेगी।

What is IPC 506 in Hindi

हमारे भारत देश में कई सारे IPC Section है जिसका प्रयोग अलग अलग केश में होता है जिस तरह से अपराध रहेगा उसी हिसाब से आपके ऊपर IPC की section लगाया जाता है यानी की आपराधिक धरा लगाया जाता है तो इसीलिए में आपको निचे बहुत विस्तार से जानकारी दूंगा बस आपको आर्टिकल पूरा पढ़ना है।

आईपीसी धारा 506 क्या है (What is IPC 506 in Hindi)

दोस्तों अब हमलोग जानने का कोसिस करते है की आईपीसी धारा 506 क्या है (What is IPC 506 in Hindi) वो भी आसान भाषा में तो देखो आज के समय में हर कोई का लड़ाई झगड़ा होता है चाहे वो अपने रिस्तेदार में हो या फिर दोस्तों के बिच हो या फिर जिस तरह से भी हो अगर कोई आपको मारने की धमकी देता है या फिर आपको किसी भी तरह से धमकाता है तो उसमे आईपीसी धारा 506 लागू होती है।

यानी की मान लीजिये आपके बिच झगड़ा हुआ और उस लड़ाई में वो हार जाता है यानी लड़ नहीं पाता है तो आपको धमकी देने लगता है की में आपको बाद में मरूंगा और आप डर जाते है तो उसके ऊपर IPC की section 506 लगा सकते है. यानी की ये धरा Court लगाएगी और इस धरा में एक साल का जेल होता है.

लेकिन इसे आप दो साल तक जेल में रहने के लिए बढ़ा सकते है। लेकिन करवाश बढ़ाने की भी प्रक्रिया होती है एशा नहीं की आप सिर्फ बोले और बढ़ जाएगी।

दोस्तों इसमें ओर भी कई सारे जुर्म होते है और हर जुर्म के लिए जेल में बिताने क साल अलग अलग होता है यानी कारवश का समय भिन्न भिन्न होता है. तो देखो अगर कोई अपराध आपको जान से मारने की धमकी देता है या फिर आपको खतरनाक चोट पहुँचाता है या फिर आपके घर में किसी तरह से तोड़ फोड़ करता है

या फिर महिलाओं पर अत्याचार करता है तो ऐसे case में अपराध को 1 साल से लेकर 7 साल तक दण्डित किया जा सकता है। दोस्तों अगर आपका कोई नुकशान करता है तो अपराध को आर्थिक दंड भी मिल सकता है तो शायद आपको समझ में आ गया होगा की आईपीसी धारा 506 क्या कहती है।

Most Read: एनसीसी (NCC) क्या है Join कैसे करे

आईपीसी धारा 506 में 2 साल की सजा कब होती है

दोस्तों में आपको बहुत ही आसान भाषा में समझाता हूँ. मान लीजिये की कोई आपका दोस्त है और किसी कारण से आप दोनों के बिच लड़ाई की सम्भावना हो जाती है और आपके दोस्त आपको धमकाता है की में तुमको मारूंगा या फिर येशी धमकी देती है जिससे आपका थोड़ा बहुत नुकशान होगा वैसे अपराध को 1 से 2 साल तक की सजा मिल सकती है।

अगर अपराध आपका किसी भी तरह से किसी भी समान का नुकशान करता है और वो नुकशान बहुत कम करता है यानी की आपका बिलकुल ना के बराबर नुक्सान हुआ है तो अपराध को 1 से 2 साल का करवाश हो सकता है यानी की आसान भाषा में कहे तो ऐसे अपराध जो आपको थोड़ा बहुत धमकी देता है वो अपराध को 2 साल की सजा होगी।

 Note:  मान लीजिये की अपराध आपका माल का नुकशान किया है. यानी आपके प्रॉपर्टी का नुकशान किया है ऐसे घडी में अपराध को आर्थिक + करवास की सजा हो सकता है।

  • साधारण धमकी की सजा 2 साल की होती है।
  • अगर आपका कुछ नुकशान हुआ है तो अपराध को आर्थिक दंड मिल सकता है
  • अपराध अगर आपको धमकी देता है और साथ ही आपका समान को नुकशान करता है तो 2 साल की सजा + आर्धिक दंड भी हो सकता है.

इसमें कैसे जमानत होगा (How will it bail)

यह एक गैर – संज्ञेय अपराध है। यानी की इसमें जमानत हो सकती है. मान लीजिये की आपके ऊपर case किया है और आपको IPC Section 506 लगा है तो इसमें आपको बैल के लिए अपराध को उससे समझोता करना होगा जो आपके ऊपर केस किया है अगर वो मान जाता है यानी की पीड़ित व्यक्ति अगर समझौता कर लेता है आरोपी से तो आपका केस ख़तम हो सकता है।

दूसरा तरीका यह है की इस केस में आपको किसी श्रेणी के मजिस्ट्रेट द्वारा आपको बात करना होगा जमानत के लिए अगर मजिस्ट्रेट को आपके ऊपर भरोषा लगता है की अब गलत काम नहीं करेगा तो मजिस्ट्रेट सोच समझ कर आपको जमानत दे दी जा सकती है।

आईपीसी धारा 506 में 7 साल की सजा कब होती है

दोस्तों जैसा की में आपको ऊपर में बताया है की IPC section 506 में 2 साल की सजा कब होती है. अब में आपको बताऊंगा की IPC Section 506 में 7 साल की सजा कब होती है. जब कोई अपराध आपको बहुत खतरनाक धमकी देता है यानी की आपको जान से मारने की धमकी देता है या फिर आपका property को आग से जलाने की धमकी देता है या फिर Rap करने की धमकी देता है या किसी चीज को मनवाने के लिए धमकी देता है।

तो ऐसे समय में भारतीय दंड संहिता (IPC) 506 की धारा अप्लाई होगी यानी की इसमें 7 साल की सजा हो सकती है। और मान लीजिये की अपराध आपके property को बहुत जाएदा नुकशान किया है तो उसको आर्थिक दंड भी हो सकता है और साथ ही 7 साल की करवास भी हो सकता है।

दोस्तों एक बात और आपको बता देता हूँ की इसमें आपको गवाह नहीं रखना पढता है क्यूंकि इसमें धमकाने वाली बात होती है तो बस आपको न्यायालय में साबित कर देना है की ये आपको धमकी दे रहा था इसके बाद आपका काम हो गया है।

 Note:  मान लीजिये की आपको कोई धमकी दे रहा है तो अगर उसकी धमकी को आप record कर लेते है तो आपको जाएदा कुछ करने की जरुरत नहीं होगी आप बहुत आसानी तरीके से आप proved कर देंगे की ये आपको धमकी दिया है। इससे अपराध को 7 साल की सजा हो सकती है।

  • खतरनाक धमकी की सजा 7 साल की होती है।
  • अगर आपका कुछ नुकशान हुआ है तो अपराध को आर्थिक दंड मिल सकता है
  • अपराध अगर आपको खतरनाक धमकी देता है और साथ ही आपका समान को नुकशान करता है तो 7 साल की सजा + आर्धिक दंड भी हो सकता है।
  • बैंक में जॉब (Bank Job) कैसे पाए

इसमें कैसे जमानत होगा (How will bail in IPC Section 506 in Hindi)

दोस्तों यह एक गैर – संज्ञेय अपराध है। यानी की इसमें जमानत मिल सकती है. मान लीजिये की आपके ऊपर पडित परवार केस किया है अगर पीड़ित परिवार को एशा लगता है की आप सुधर गए हैं. तो आप पीड़ित परिवार से मिलकर समझोता कर सकते है अगर पीड़ित व्यक्ति आपके साथ समझौता कर लेता है तो आपका केस ख़तम हो सकता है।

दूसरा तरीका यह है की इस केस में आपको प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट से आपको बात करना होगा जमानत के लिए अगर प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट को आपके ऊपर भरोषा लगता है की अब आप गलत काम नहीं करेंगे तो मजिस्ट्रेट सोच समझ कर आपको जमानत दे दी जा सकती है।

 Note:  मान लीजिये की कोई अपराध आपको बहुत ही भयानक धमकी देता है यानी की सिर्फ जान से मारने की धमकी देता है या फिर किसी औरत को Rap की धमकी देता है तो उस समय में ऐसे व्यक्ति को भयानक सजा का भी प्रवधान है जैसे की मृत्युदंड या कम से कम 7 साल तक के कारावास की सजा दी जा सकती है या फिर आजीवन कारावास तक की सजा भी दी जा सकती है।

तो मुझे उम्मीद है की आपको आईपीसी धारा 506 क्या है (IPC 506 in Hindi) इसकी पूरी जानकारी मिल गई होगी और साथ ही साथ IPC की धारा 506 क्या कहती है (What does section 506 of ipc say in hindi) इसकी जानकारी भी मिल गई होगी। तो अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा तो आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here