IPC 447 in Hindi – आईपीसी धारा 447 क्या है सजा जमानत

0

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि आईपीसी धारा 447 क्या है। (What is IPC Section 447 in Hindi), आईपीसी धारा 447 में कैसे सजा होती है, आईपीसी धारा 447 कैसे इसमें जमानत होती है। (How is punishment and bail in IPC section 447 in Hindi) यह धारा क्या कहती है। (What does IPC section 447 says in Hindi), सब कुछ विस्तार से जानेंगे बस आप आर्टिकल लास्ट तक पढ़ते रहना।

आज के आर्टिकल में एक बहुत ही महत्वपूर्ण धारा के बारे में जानेंगे इस धारा के बारे में जानना हम सभी के लिए बहुत जरूरी है तभी हम अपने आप को घुसपैठियों और हमारे घर में घुसकर अपराध करने वाले या डराने धमकाने वाले लोगों से बचाएंगे अगर कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति के घर किसी अपराध के उद्देश्य से घुसता है तो उसे कितनी सजा होगी। या फिर आप किसी व्यक्ति के घर जाते हैं और उसे डराते हैं या धमकाते हैं तो आप को कितने दिन की सजा होगी।

आज का आर्टिकल ऐसे ही एक कानून के बारे में है जिसके जरिए आप अपने घर को घुसपैठियों से बचा सकते हैं अगर आप भी इस कानून के बारे में जानना चाहते हैं हमारे इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें इसमें आपको आज आईपीसी की धारा 447 के बारे में बहुत ही विस्तार से बताया जाएगा इस आर्टिकल में आज हम ipc 447 kya hai, ipc 447 किस अपराध की सजा का प्रावधान देता है इन सब के बारे में आज हम जानेंगे।

IPC 447 in Hindi

इस कानून के बारे में सबको जानकारी होनी चाहिए क्योंकि अगर आपको इस कानून के बारे में जानकारी नहीं होती है और कोई आपको डरा धमका कर चला जाता है तो आप उससे डर कर आगे कुछ नहीं कर पाते अगर आपको ऐसे कानूनों की जानकारी होती है

तो आप उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकते हैं और खुद को और खुद के घर को ऐसे अपराधियों से बचा सकते हैं और हम सभी को अपने कानून के बारे में जानना बहुत जरूरी है ताकि हम अपने मौलिक अधिकार और अपनी सुरक्षा को पुख्ता कर सकें।

Most Read: CRPC Section 340 in Hindi – सीआरपीसी की धारा 340 क्या है

आईपीसी धारा 447 क्या है (What is IPC Section 447 in Hindi)

IPC Section 441 में परिभाषित किया गया अपराधों की सजा का प्रावधान देता है इस धारा में आपको 447 धारा के अंतर्गत आने वाले अपराधों में क्या सजा मिलती है इसके बारे में बताया गया है।

आईपीसी की धारा 447 में यह कहा गया है कि अगर कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति के घर मैं किसी अपराध के उद्देश्य में घुसता है उसे डराता है या उसे धमकाता है या और भी किसी प्रकार के अपराधिक घटनाओं के उद्देश्य से जाता है तो उस व्यक्ति को 3 महीने की कारावास या फिर ₹500 तक का जुर्माना हो सकता है और हो सकता है कि उस व्यक्ति को 3 महीने के कारावास के साथ ₹500 तक का जुर्माना हो सकता है।

इसमें घर का उद्देश्य है कि आप किसी के प्राइवेट संपत्ति या फिर ट्रेन बस और भी कोई भी सार्वजनिक संपत्तियों में किसी अपराध के उद्देश्य से घुसते हैं तो आपको धारा 441 के तहत पुलिस पकड़ सकती है और इस अपराध की सजा का प्रावधान धारा 447 में दी गई है यानी कि आपको 3 महीने की कारावास और ₹500 तक का जुर्माना देना पड़ सकता है।

 Example:  जैसे कि अगर कोई चोर किसी व्यक्ति के घर चोरी करता है तो उस चोर पर धारा 441 के तहत भी अपराध करने का मुकदमा दर्ज होगा तथा चोरी करने का भी मुकदमा दर्ज होगा ऐसे करने पर उस चोर को धारा 447 के तहत 3 महीने की जेल की सजा और ₹500 तक जुर्माना और साथ ही साथ चोरी करने के अलग सजा भी होगी।

अगर आपका किसी व्यक्ति के साथ झगड़ा हुआ है या बहस हुई है और आप उस व्यक्ति के घर जाकर उसे डराते धमकाते हैं या उस व्यक्ति के साथ मारपीट करने की कोशिश करते हैं तो वह व्यक्ति आपके ऊपर धारा 441 के तहत आपराधिक मामला दर्ज करा सकता है।

और आप पर धारा 441 के अपराध के लिए धारा 447 में दिए गए सजा का प्रावधान के तहत सजा मिलेगी यानी कि आपको 3 महीने का कारावास और ₹500 का जुर्माना और साथ ही साथ उसे धमकी देने और उसके साथ मारपीट करने के अलग सजा होगी।

Most Read: CRPC Section 91 in Hindi – सीआरपीसी धारा 91 क्या है

आपने कोई निजी संपत्ति खरीद रखी है और आप उस संपत्ति पर नहीं रह रहे हैं और उस संपत्ति में कोई व्यक्ति आपराधिक तरीके से घुस आता है तो उस व्यक्ति के ऊपर धारा 441 के तहत मुकदमा दर्ज होगा और उस पर 447 में दिए गए सजा का प्रावधान के तहत सजा भी मिलेगी।

अगर कोई पुलिसकर्मी या कोई सरकारी कर्मी आपके घर तलाशी के लिए आता है अगर उस पुलिसकर्मी या सरकारी कर्मी को आपके घर में कुछ गलत कार्य होने का अंदेशा होता है या फिर आपके घर में कुछ गलत कार्य हो रहे हैं इसका अंदेशा होता है और उसे आपके घर की तलाशी की इजाजत है तो आपके घर में तलाशी कर सकता है।

पर अगर वह पुलिसकर्मी या सरकारी कर्मी तलाशी के बाद भी आपके घर में घुसा रहता है और आपको डराता धमकाता है आपको बेइज्जत करता है तो उस पुलिसकर्मी और सरकारी कर्मी के ऊपर भी आप धारा 441 के तहत आपराधिक मुकदमा दर्ज करा सकते हैं वह सरकारी और पुलिसकर्मी को भी सजा मिलेगी उसे भी 3 महीने की सजा और ₹500 तक का जुर्माना हो सकता है।

क्या IPC Section 447 में बेल प्राप्त होती है?

हां आईपीसी की धारा 447 में आपको बेल मिल जाएगी यह अपराध बेलेबल है इसमें आपको जमानत के लिए अर्जी देनी होती है और आप को जमानत मिल जाती है आपको बेल के लिए बॉन्ड भी भरना होता है उसके बाद ही आप को बल मिलता है।

क्या आईपीसी की धारा 447 cognizable योग्य हैं?

आईपीसी की धारा 447 कॉग्निजेबल योग्य है यानी कि अगर आप पर मुकदमा करने वाला व्यक्ति आपको माफ कर देता है तो वह कोर्ट और न्यायालय के आदेश के बाद आपके खिलाफ अर्जी हटा सकता है और आप को सजा से बचा सकता है।

Most Read: CRPC Section 482 in Hindi – सीआरपीसी धारा 482 क्या है 

Conclusion 

आज इस आर्टिकल में आईपीसी की धारा 447 के बारे में जाना है इस आर्टिकल में हमने जाना है कि आईपीसी की धारा 447 में क्या कहा गया है आईपीसी धारा 447 क्या है। (What is IPC Section 447 in Hindi) आईपीसी की धारा 447 किस अपराध की सजा का प्रावधान देता है आईपीसी की धारा 447 में कौन से धारा के अपराध के सजा का प्रावधान है?

मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़कर आपको आईपीसी की धारा 447 के बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया तो हमारे आर्टिकल को शेयर जरूर करें ताकि सभी लोगों तक यह जानकारी पहुंच सके और उन्हें आईपीसी की धारा 447 के बारे में पता चल सके अगर आप हमारे आर्टिकल के संबंधित कोई राय देना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here