IPC 33 in Hindi – आईपीसी की धारा 33 क्या है सजा | जमानत

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि आईपीसी धारा 33 क्या है। (What is IPC Section 33 in Hindi), आईपीसी धारा 33 में कैसे सजा होती है, आईपीसी धारा 33 कैसे इसमें जमानत होती है। (How is punishment and bail in IPC section 33 in Hindi) यह धारा क्या कहती है। (What does IPC section 33 says in Hindi), सब कुछ विस्तार से जानेंगे बस आप आर्टिकल लास्ट तक पढ़ते रहना।

दोसतों अभी तक हम जिस भी IPC या CRPC की धाराओं पर बात किये उनमे हमने उस धारा को कब लागू करना ? उससे जुडी बातें, उस धारा के तहत मिलने वाली सजा का ज़िक्र किया है। दोस्तों ऐसी ही एक धारा के भी बारे में हमलोगो ने जानकारी ली थी जो थी IPC की धारा 33 जिसमे हमने ये जाना की IPC की धारा 33 कब लागू की जाती है ? इसके तहत मिलने वाली सजाएँ कौन कौन सी है ? किस वजह से इस धारा को लागू किया जायेगा?

IPC 33 in Hindi

तो इस तरह की सभी बातों पर हमने अच्छे से details में हमने जिक्र किया। मगर इस IPC की धारा क्या बताती है उसके लिए भी एक धारा को बनाया गया है जो है भारतीय दंड संहिता की धारा IPC 33। तो दोस्तों आज हम IPC 33 के बारे में जानेंगे। तो आपलोग इस आर्टिकल को पूरा लास्ट तक पढ़ें ताकि आप लोगो को इसकी अच्छी जानकारी हो सके।

Most Read: IPC 211 in Hindi – आईपीसी की धारा 211 क्या है सजा | जमानत

आईपीसी की धारा 33 क्या है (What is IPC Section 33 in Hindi)

भारतीय दंड संहिता की धारा IPC 33 के अनुसार “लोप” शब्द लोपावली की द्योतक उसी प्रकार है जिस प्रकार एक लोप का। 

The word “act” denotes as well a series of acts as a single act: the word “omission” denotes as well as series of omissions as a single omission.” 

आसान शब्दों में कहें तो IPC की धारा 33 Act और Omission को Define करती है, मतलब उसके बारे में बताती है। 

Most Read: IPC Section 510 in Hindi – आईपीसी धारा 510 क्या है

Act- जब कभी आप कोई कार्य या कोई काम करते हो तो उसे हम Act  कहते है। 

Omission-  जब कोई कार्य आपने नहीं किया है तो उसे Omission कहा जायेगा। 

अगर कोई Act या Omission एक Series से किया जाता है। तो उसे Series of Act या Series of Omission कहा जाता है। और अगर ऐसा है तो इसे एक Single Act या Single Omission ही माना जायेगा और मिलने वाली सजा भी एक ही मिलेगी। इसे हम Example से और अच्छे से Clear करेंगे। 

 Example:  मानलो यदि किसी व्यक्ति ने किसी अन्य व्यक्ति को 7 बार चाकू मारा और हर बार इतना ज़ोर से चाकू मारा जिससे उस व्यक्ति की जान जा सकती थी। तब इस स्थिति में ये सिर्फ एक ही एक्ट कहलायेगा।

 Note:  IPC की धारा 33 Act और Omission को Define करती है, मतलब उसके बारे में बताती है। अगर कोई Act या Omission एक Series से किया जाता है। तो उसे Series of Act या Series of Omission कहा जाता है। और अगर ऐसा है तो इसे एक Single Act या Single Omission ही माना जायेगा और मिलने वाली सजा भी एक ही मिलेगी।

Most Read: IPC Section 408 in Hindi – आईपीसी धारा 408 क्या है

Conclusion

आशा है की आपको आईपीसी धारा 33 क्या है? इससे सम्बंधित बहुत सी जानकारी आपको हुई होगी और साथ ही IPC की धारा 33 क्या कहती है? (What does section IPC 33 says in Hindi). इसकी जानकारी भी आपको मिल गयी होगी। तो अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया हो तो आप अपने दोस्तों के साथ जरूर इसे शेयर करें ताकि आपके दोस्त भी हमारे भारतीय दंड संहिता के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here