IPC 342 in Hindi – आईपीसी धारा 342 क्या है पूरी जानकारी

0

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि आईपीसी धारा 342 क्या है। (What is IPC Section 342 in Hindi), आईपीसी धारा 342 में कैसे सजा होती है, आईपीसी धारा 342 कैसे इसमें जमानत होती है। (How is punishment and bail in IPC section 342 in Hindi) यह धारा क्या कहती है। (What does IPC section 342 says in Hindi), सब कुछ विस्तार से जानेंगे बस आप आर्टिकल लास्ट तक पढ़ते रहना।

हमारे देश के कानून में हमारे मौलिक अधिकार और स्वतंत्रता के लिए बहुत से कानून बनाए गए हैं हमें इन कानूनों की जानकारी होना बहुत जरूरी है ताकि हम अपने अधिकारों का हनन होने से बचा सके और अपने मौलिक अधिकारों का उपयोग कर सकें। बहुत से लोग जानकारी के अभाव के कारण ही अपने अधिकारों को खोते हैं और वह दूसरे लोगों से पीड़ित होकर रहते हैं।

हमारा उद्देश्य है कि हम आप सभी तक अपने इस ब्लॉग के द्वारा कानून की जानकारी पहुंचा सके ताकि हमारे देश के सभी लोगों को कानून की जानकारी हो सके और वह अपनी मौलिक अधिकारों का इस्तेमाल कर सकें क्योंकि आए दिन लोगों के साथ कानून का गलत इस्तेमाल करके उनको प्रसारित किया जाता है अगर उन्हें कानून की अच्छी जानकारी होगी तो वह इन सब चीजों से बच सकेंगे और अपने अधिकारों को भी बचा सकेंगे।

IPC 342 kya hai

आज इस आर्टिकल में हम आईपीसी की धारा 342 के बारे में जानेंगे इस आर्टिकल में हम ipc 342 kya hai? ipc 342  कौन से प्रावधान है और आईपीसी की धारा 342 क्या कहता है? आज इस आर्टिकल में हम आईपीसी 342 धारा के बारे में विस्तार से जानेंगे। इन सब के बारे में जानेंगे अगर आप भी आईपीसी 342 के बारे में जानना चाहते हैं हमारे इस आर्टिकल को का पूरा ध्यान से पढ़े।

Most Read: IPC Section 149 in Hindi – आईपीसी धारा 149 क्या है

आईपीसी धारा 342 क्या है (What is IPC Section 342 in Hindi)

आईपीसी धारा 342 को आज हम इस आर्टिकल में हिंदी में बहुत विस्तार से जानेंगे मेरी कोशिश रहेगी कि मैं आपको बहुत ही आसान शब्दों में इस धारा के बारे में बता सकूं तो सबसे पहले हम जानेंगे कि आईपीसी धारा 342 क्या है?

IPC 342 KYA HAI: आईपीसी धारा 342 सजा का प्रावधान करता है जो भी अपराध आपका आईपीसी धारा 340 के अंतर्गत आता है उसके सजा का प्रावधान आईपीसी धारा 342 में किया गया है।

इस धारा में कहा गया है कि अगर किसी व्यक्ति ने किसी दूसरे व्यक्ति को नाजायज तरीके से किसी कमरे में बंद कर के रखा है या उसे कहीं आने जाने से रोका हुआ है तो उस पर आईपीसी 340 के तहत अपराध माना जाएगा और आईपीसी 342 धारा के तहत उसे 1 साल की सजा और साथ ही साथ ₹1000 तक का जुर्माना भी देना पड़ सकता है।

अभी के समय में बहुत से ऐसी घटनाएं होती है जहां पर लोग किसी व्यक्ति या बच्चों को एक कमरे में बंद कर देते हैं और उन्हें कहीं आने जाने से निकलने नहीं देते हैं यह उन्हें जबरदस्ती बंद करने के बराबर है और इसे एक बहुत बड़ा अपराध माना गया है क्योंकि हर एक व्यक्ति का मौलिक अधिकार होता है कि वह कहीं भी आ जा सके और कहीं भी घूम सके पर जब कोई व्यक्ति उनके इन मौलिक अधिकारों का हनन करता है तब उन पर कानूनी शिकायत हम कर सकते हैं।

 Example:  अगर मान लीजिए आप कहीं काम कर रहे हैं और आप के मालिक ने आपको जबरदस्ती किसी कमरे में बंद कर दिया है और आपको कहीं बाहर आने-जाने की इजाजत नहीं है तो भी यह एक कानूनी अपराध है किसी भी व्यक्ति को हम नाजायज तरीके से कहीं बंद करके नहीं रख सकते हैं हम पर 340 के तहत अपराध का शिकायत दर्ज होगा और 342 के तहत हमें सजा प्राप्त होगी।

अगर आपने अपनी पत्नी को उत्पीड़ित किया है और उसे किसी कमरे में बंद कर दिया है तो आप पर उत्पीड़न का भी केस बनेगा और साथ ही साथ आपका 340 धारा के तहत जबरदस्ती बंद करने का भी केस  बनेगा।

अगर किसी ने आपके घर में चोरी की है और आपने उस चोर को कुछ समय के लिए अपने घर पर बंद करके रखा है जब तक पुलिस नहीं आ जाती है तो यहां नाजायज या फिर 340 के तहत अपराध नहीं माना जाएगा क्योंकि आपने एक अपराधी को कुछ समय के लिए अपने पास रखा है ताकि आप उसे पुलिस के हवाले कर सकें

पर अगर आपने उस अपराधी को अधिक समय तक अपने घर पर नाजायज तरीके से बंद रखा और उसे उत्पीड़ित कर रहे हैं तो अपराधी के पास भी यह अधिकार है कि वह पुलिस के पास जाकर आप के खिलाफ 340 के तहत शिकायत दर्ज करा सकें और आपको इसके तहत सजा भी हो सकती है इसीलिए अगर आपके घर में चोरा चोरी करते हुए पकड़ा जाता है तो आप उसे जल्द से जल्द पुलिस के हवाले कर दे

Most Read: Section CRPC 133 in Hindi – सीआरपीसी धारा 133 क्या है 

 Note:  उसे जबरदस्ती अपने घर में ना करें यह उसके मौलिक अधिकार के खिलाफ है और हम किसी भी व्यक्ति के मौलिक अधिकार को छीन नहीं सकते हैं यह हमारे देश में सबसे बड़ा अपराध माना जाता है।

बहुत से लोग इस धारा का गलत इस्तेमाल भी करते हैं जिसके वजह से वह मासूम और निर्दोष इंसान को भी इस धारा में हंसा देते हैं इसीलिए आईपीसी की धारा 342 के तहत आपको यह भी अधिकार मिलता है कि आप उस व्यक्ति से समझौता कर ले जिसने आप पर यह मुकदमा किया है तो आप बरी हो सकते हैं।

आईपीसी धारा 144 में सजा का प्रावधान (Punishment in IPC Section 342 in Hindi)

आईपीसी की धारा 342 के तहत उत्तर के व्यक्तियों पर सजा का प्रावधान है क्योंकि 340 धारा के तहत अपराध किए हैं यानी कि वह व्यक्ति जो किसी व्यक्ति को जबरदस्ती बंद करके रखे हैं या कहीं आने जाने से रोक रहे हैं तो 342 धारा के तहत उन्हें 1 साल की सजा और ₹1000 तक की जुर्माना हो सकती है।

आईपीसी धारा 144 में जमानत का प्रावधान (Bail in IPC section 342 in Hindi)

आईपीसी की धारा जमानती है। यानी अगर किसी व्यक्ति को आईपीसी की धारा 342 के तहत सजा होती है तो वह जमानत पर छूट सकता है बस उसे मजिस्ट्रेट के पास इस चीज के लिए आवेदन करना होता है और मजिस्ट्रेट से जमानत का आदेश लेना होता है तभी जाकर उन्हें इस पर जमानत प्राप्त होगा।

Most Read: IPC Section 4 in Hindi – आईपीसी धारा 4 क्या है

Conclusion 

आज की इस आर्टिकल में हमने एक बहुत ही महत्वपूर्ण कानूनी धारा के बारे में जाना है इस आर्टिकल में हमने मौलिक अधिकार के कानूनी धारा के बारे में जाना है अगर कोई व्यक्ति हमें जबरदस्ती बंद कर देता है तो हम उस पर किस धारा के तहत मुकदमा चला सकते हैं और उस व्यक्ति को कितने दिन की सजा हो सकती है। हम किसी व्यक्ति को जबरदस्ती बंद करते हैं तो हमें कितने दिन की सजा हो सकती है इन सब के बारे में इस आर्टिकल में हमने विस्तार से जाना है।

इस आर्टिकल में हमने आईपीसी धारा 342 क्या है। (What is IPC Section 342 in Hindi) 342 के तहत क्या प्रावधान है? और 342 की धारा क्या जमानत मिल सकती है? और 342 के धारा के तहत कितने दिन का सजा का प्रावधान है? इन सब के बारे में विस्तार से जाना है मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़कर आपको आईपीसी की धारा 342 के बारे में सारी जानकारी मिली होगी।

अगर आपको हमारा आर्टिकल पढ़कर अच्छा लगा तो शेयर जरूर करें और हमारे आर्टिकल के संबंधित राय देना चाहते हैं हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here